Saturday, November 26, 2022
HomeBollywoodठाकरे के फैसलों को पलटते शिंदे--- News Online (www.googlecrack.com)

ठाकरे के फैसलों को पलटते शिंदे— News Online (www.googlecrack.com)

मेट्रो-3 कार शेड
ठाकरे: मेट्रो कार शेड को आरे मिल्क कॉलोनी से कांजुरमार्ग में स्थानांतरित कर दिया. पर्यावरण से जुड़ी चिंताओं को लेकर आरे कॉलोनी पर बहुत विरोध हो रहा था

परिणाम: कांजुरमार्ग की जमीन पर मुकदमेबाजी के चलते प्रोजेक्ट अटक गया; लागत में वृद्धि: 10,000 करोड़ रुपए

शिंदे: यह कहते हुए कि सुप्रीम कोर्ट ने प्रोजेक्ट के स्थान को मंजूरी दे दी है, कार शेड को वापस आरे कॉलोनी ले आए

स्थिति: प्रोजेक्ट फिर से शुरू हो गया. अंडरग्राउंड मेट्रो लाइन के लिए 30 अगस्त को ट्रायल रन किया गया

प्रभाव: पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने फिर से आंदोलन छेड़ दिया है

एसईईपीजेड-बांद्रा लाइन का काम जून 2023 तक पूरा हो जाएगा

बुलेट ट्रेन टर्मिनस

ठाकरे: बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में टर्मिनस बनाने के लिए नेशनल हाइ स्पीड रेलवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) को जमीन देने से इनकार

परिणाम: परियोजना में दो साल की देरी;

लागत बढ़ी: 12,000 करोड़ रु.

शिंदे: सीमांकित भूमि पर बने कोविड केयर सेंटर को हटाने के आदेश, जमीन एनएचएसआरसील को सौंपी

स्थिति: कोविड केयर सेंटर को हटाने का काम जारी है. बुलेट ट्रेन टर्मिनस के निर्माण के लिए निविदा मंगाई गई है

प्रभाव: परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण में महाराष्ट्र पीछे है, इसलिए यह कदम प्रक्रिया में तेजी ला सकता है

‘आपातकाल के योद्धाओं’ की पेंशन

ठाकरे: आपातकाल (1975-77) के दौरान जेल में बंद लोगों को 10,000 रुपए की मासिक पेंशन रोक दी गई

परिणाम: लगभग 4,500 लोग प्रभावित

शिंदे: दोबारा शुरू की पेंशन योजना

स्थिति: वर्तमान में 3,600 लोग पेंशन के हकदार हैं. अन्य 800 लोगों के आवेदन विचाराधीन

प्रभाव: अधिकांश लाभार्थी आरएसएस के सदस्य हैं, इसलिए सरकार की सहयोगी भाजपा को निकाय चुनावों में इसका फायदा नजर आता है

नागरिक निकायों में प्रत्यक्ष चुनाव

ठाकरे: अध्यक्ष (नगर परिषद) और सरपंच (पंचायतों) के पद के लिए सीधे चुनाव को रोक दिया

परिणाम: चूंकि अध्यक्षों को पार्षदों के बीच से चुना गया था, सो तत्कालीन सत्तारूढ़ महाराष्ट्र विकास अघाड़ी (एमवीए) को फायदा हुआ

शिंदे: सीधे चुनाव की अनुमति

स्थिति: आगामी नगर निकायों के चुनाव में लागू होगा

प्रभाव: शिवसेना के शिंदे गुट और सहयोगी भाजपा को राजनीतिक लाभ हो सकता है क्योंकि प्रत्यक्ष चुनाव के उनके पक्ष में रहने की संभावना है

किसानों का मताधिकार

ठाकरे: कृषि उपज विपणन समितियों (एपीएमसी) के सदस्यों के चुनाव में किसानों से वोटिंग अधिकार छीन लिया था

परिणाम: एपीएमसी सदस्यों का चयन ग्राम पंचायत, कृषि ऋण समितियों और कांग्रेस और राकांपा के प्रभुत्व वाली बहुउद्देश्यीय ऋण समितियों के सदस्यों की ओर से किया गया था

शिंदे: एपीएमसी चुनावों में किसानों के अधिकारों को बहाल किया. 0.25 एकड़ भूमि वाले ऐसे किसान जिन्होंने पिछले पांच वर्षों में कम से कम तीन बार एपीएमसी बाजार में अपनी उपज बेची है, मतदान के पात्र हैं

स्थिति: अगले साल होने वाले एपीएमसी चुनाव में लागू होगा फैसला

प्रभाव: शिंदे गुट और भाजपा, किसानों को लुभाने और कांग्रेस-राकांपा का एकाधिकार तोड़ने में सक्षम हो सकती हैं

बीएमसी वार्ड

ठाकरे: बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) में वार्डों की संख्या 227 से बढ़ाकर 236 की गई, कई वार्डों की सीमाएं बदलीं

परिणाम: बदली हुई सीमाओं के साथ शिवसेना फायदे में दिख रही थी; कोर मतदाताओं को बड़े पैमाने पर समायोजित कर लिया गया था

शिंदे: वार्डों की संख्या पहले की तरह 227 की, परिसीमन रद्द

स्थिति: एससी, महिलाओं के लिए वार्ड आरक्षित करने की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी

प्रभाव: शिंदे के साथियों और भाजपा को उम्मीद है कि ठाकरे गुट को मराठी बहुल इलाकों से बाहर कर दिया जाएगा

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments