Saturday, November 26, 2022
HomeSportsदिल्ली: बार और होटलों में महंगी शराब की किल्लत, नहीं निकल रहा...

दिल्ली: बार और होटलों में महंगी शराब की किल्लत, नहीं निकल रहा मार्जिन — News Online (www.googlecrack.com)

दिल्ली में नई शराब पॉलिसी की जगह पुरानी शराब पॉलिसी 1 सितंबर से लागू है. सरकारी ठेके के जरिए ही राजधानी दिल्ली में शराब बेची जा रही है. नॉन कन्फर्मिंग एरिया के लोगों को शराब का संकट ना हो, इसके लिए मेट्रो स्टेशनों पर भी ठेके हैं. पॉलिसी लागू होने के 20 दिन से ज्यादा का वक्त हो गया, ऐसे में दुकानों में स्टॉक और पीने वालों की पसंद की शराब मिले, इसके लिए काफी जतन किए जा रहे हैं.

लेकिन रेस्टोरेंट और बार बिजनेस से जुड़े लोगों का कहना है कि 5000 से ऊपर की कीमत वाली काफी महंगी शराब नहीं मिल रही है. एक दुकानदार ने कहा कि पूरी एक्साइज़ फीस दे रहे हैं लेकिन इसका फायदा नहीं मिल रहा है. या तो एक्साइज विभाग एक्साइज की पेमेंट कम करे और जो उपलब्ध है, वही बेचने को कहे. मौजूदा ब्रांड सस्ते हैं, मार्जिन नहीं निकल रहा है. जबकि महंगे वाले ब्रांड एनुअल एक्साइज फीस को कवर कर देते हैं. इस वक्त पूरी रेस्टोरेंट इंडस्ट्री इस समस्य़ा से ग्रस्त है. शराब, बीयर विह्स्की की सेल जब गिरती है तो  खाने की भी सेल में गिरावट देखने को मिल जाती है.

सीपी स्थित बार मालिक ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि महंगी और प्रीमियम,पसंदीदा ब्रांड की जगह कुछ और ऑफर करने पर कई ग्राहक नाराज भी हो जाते हैं. कई लोग दूसरा ब्रांड पी लेते हैं और कई उठकर चले भी जाते हैं.  

नेशनल रेस्टोरेंट असोसिएशन ऑफ इंडिया के ट्रेजरर मनप्रीत का कहना है “प्रीमियम इंपोर्टेड ब्रांड अब तक उपलब्ध नहीं है. वाइन के अच्छे ब्रांड मौजूद नहीं हैं. इंडियन बीयर लिमिटेड है. या तो ब्रांड्स ने एक्साइज से अप्रूवल ली नहीं है या फिर उन्हें डिपार्टमेंट ने अब तक नहीं दी है. प्रीमियम शराब की किल्लत से होने वाले घाटे के बारे में खास-बातचीत में बताया कि किल्लत की वजह नहीं पता है. एक्साइज विभाग के मुताबिक देशी विदेशी शराब के करीब 500 ब्रांड रजिस्टर्ड हैं. सरकारी पोर्टल पर लॉगिन करने पर सभी ब्रांड्स दिखते हैं और सीधे होलसेलर (L-1) से ऑर्डर किए जा सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments