Friday, December 9, 2022
HomeStatesपटना के शीतला मंदिर में दर्शन के लिए उमड़ा भक्तों का सैलाब,...

पटना के शीतला मंदिर में दर्शन के लिए उमड़ा भक्तों का सैलाब, फुहारों के बीट भी मां की झलक पाने क— News Online (www.googlecrack.com)

पटना: राजधानी में आज महानवमी को लेकर मंदिरों में भारी भीड़ देखने को मिल रही. नवरात्र के नवमी पर जगत जननी मां जगदंबे की पूजा की जाती है. उन्हें प्रसन्न करने से घर में खुशहाली, जीवन में सुख समृद्धि की प्राप्ती होती है. सुबह से ही हल्की बारिश के बीच भी माता की पूजा-अर्चना के लिए भक्त जनों की भीड़ लगी है. सभी पूजा पंडालों और मंदिरों में भक्त मां के दर्शन के लिए उमड़ रहे. महानवमी के पावन अवसर पर अगम कुआं स्थित माता शीतला मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ है. तीन किलोमीटर लंबी लाइन लगी हुई है. देवी के दर्शन के लिए रात 2 बजे से श्रद्धालु लाइन में लगे हैं. भक्तों में नवमी को लेकर काफी उत्साह है.

महानवमी पर शीतला माता मंदिर में ऐसे होती पूजा

बता दें कि मंदिर परिसर में माता शीतला की प्रतिमा एवं नवदुर्गा का पिंड स्थापित है. नवरात्र के दौरान प्राकृतक फूलों से माता का शृंगार किया जाता है. नवमी को मां का स्नान, शृंगार व महाभोग के बाद विशेष आरती होती है. आज महानवमी के दिन श्रद्धालु पशु की बलि भी देते हैं. आज महिला पुरूष श्रद्धालुओं की भारी भीड़ है. मंदिर परिसर भक्तों से खचाखच भरा हुआ है. श्रद्धालु माता को चुनरी सिंदूर नारियल फल चढ़ा रहे हैं. दूर दराज से लोग इस मंदिर में महानवमी के दिन आते हैं. यहां मनोकामना पूरी होती है. पिछले दो साल से कोरोना काल के कारण प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा था. सीमित संख्या में ही लोग अंदर जा रहे थे, लेकिन इस बार सभी को दर्शन का मौका मिल रहा है. भक्तों की तादाद काफी है. 

यह भी पढें- Navratri 2022: शीतला माता के दर्शन करने पहुंचे तेजस्वी यादव, अष्टमी पर की मां की पूजा-अर्चना, कहा- मंदिर से है पुराना रिश्ता

वहीं माता के दर्शन करने आए भक्तों ने कहा कि हमलोग आज बहुत उत्साहित हैं. यहां सभी मनोकामना पूरी होती है. माता के दर्शन करने से हमें काफी खुशी होती है. घंटों से हम लोग  मां की एक झलक पाने के लिए लाइन में लगे हैं. कई वर्षों से हम लोग यहां आ रहे. बता दें कि मुख्य द्वार का पूरब ही शीतला माता का मंदिर है. मंदिर के दरवाजे के पूरब एवं दक्षिण कोने पर शीतला माता की खड़ी मूर्ति है. शीतला माता के मूर्ति के दाहिने त्रिशूल तथा उसके दाहिने ङ्क्षपडी रूप में योगिनी विराजमान हैं. शीतला माता की मूर्ति के बांये में अंगार माता की छोटी मूर्ति है. स्थित अशोककालीन शीतला माता मंदिर उपासना का प्राचीन केंद्र है. 

फुहारों के बीच लोग लगा रहे आस्था की डूबकी

हल्की बारिश के  बीच भी राजधानी में दुर्गा पूजा की उमंग अपने शीर्ष पर है. महानवमी पर भक्तों की पूजा पंडाल और मंदिरों में भारी भीड़ लगी है. वहीं महानवमी के दिन कन्या पूजन की जाती है. इस दिन 9 कन्याओं को विधि-विधान पूर्वक भोजन करना चाहिए. सभी प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाने से पहले कन्याओं की आरती और पैर धोने चाहिए. नवमी के दिन नवग्रह लकड़ियों के साथ सभी देवी के मंत्रों का जप करके हवन किया जाना चाहिए. इससे काफी पुण्य की प्राप्ती होती है. 

यह भी पढ़ें-Durga Puja 2022: अष्टमी पर CM नीतीश ने ठाकुरबाड़ी में की संध्या आरती, रविशंकर प्रसाद से हुई मुलाकात, जमकर लगे ठहाके

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments