Monday, December 5, 2022
HomeStatesबरेली में 455 साल पुराना रहा है रामलीला का इतिहास, जानें- किसने...

बरेली में 455 साल पुराना रहा है रामलीला का इतिहास, जानें- किसने की थी शुरुआत?— News Online (www.googlecrack.com)

Bareilly Ramleela: दीपावली का पावन पर्व आ रहा है. इस पर्व से पहले देश भर में रामलीला (Ramleela) का मंचन होता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि देश में तीसरी सबसे पुरानी ऐतिहासिक रामलीला बरेली (Bareilly) के हार्टमैन रामलीला ग्राउंड (Hartman Ramleela Ground) में होती है, जिसे इस बार 455 साल हो गए हैं. सबसे पहले रामलीला करीब 500 साल पहले अयोध्या (Ayodhya) में शुरू हुई थी. उसके बाद काशी और फिर 455 साल पहले राजा बसंत राव ने बरेली में रामलीला की शुरूआत की थी.

इस रामलीला में अयोध्या, सीतापुर और बिहार से कलाकार आते हैं और 18 दिनों तक यह रामलीला चलती है. आज के समय में भी हमारी भारतीय संस्कृति की पहचान रामलीला देखने का लोगो में जबरदस्त क्रेज है. बरेली में 56 स्थानों पर इन दिनों रामलीला हो रही है. रामलीला देखने के लिए बच्चे, महिलाएं और पुरुष बड़ी संख्या में रामलीला में पहुंच रहे हैं. 455 साल पुरानी ऐतिहासिक रामलीला देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग चौधरी तालाब पर पहुंचते हैं.

ये भी पढ़ें- UP: हरदोई में किसान ने कराया भैंस के बच्चे का मुंडन, 300 लोगों को दी दावत, जानिए वजह

20 दिन पहले ही रामलीला के रंग में रंग जाते थे लोग

रामलीला में बच्चों के मनोरंजन के लिए झूले भी लगाए गए हैं. एक दौर था जब रामलीला देखने के लिए लोग लखीमपुर, रामपुर, मुरादाबाद, शाहजहांपुर, बदायूं और पीलीभीत से भी लोग आते थे. करीब 20 दिन पहले ही लोग यहां आ जाते थे और रामलीला के रंग में रंग जाते थे. आपको बता दें कि आज शारदीय नवरात्रि का तीसरा दिन है. आज के दिन मां चंद्रघण्टा की पूजा होती है. नवरात्रि की समाप्ति 5 अक्टूबर को होगी. वहीं इस साल 24 अक्‍टूबर 2022 को दीपावाली मनाई जाएगी.

ये भी पढ़ें- पीएफआई बैन पर सपा सांसद बर्क बोले- ‘PFI की कोई देश विरोधी गतिविधि नहीं देखी, मुसलमानों के साथ खड़ी रहती है’

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments