Saturday, December 3, 2022
HomeTop Storiesआजाद की नई पार्टी से जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस पर पड़ेगा कितना असर?...

आजाद की नई पार्टी से जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस पर पड़ेगा कितना असर? सर्वे में हुआ खुलासा— News Online (www.googlecrack.com)

ABP News Survey On Azad Party Impact On Congress: 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए देश के सभी राजनीतिक दलों ने अपनी कमर अभी से कस ली है. तमाम छोटी-बड़ी पार्टियां अपने-अपने हिसाब से चुनावी रणनीति बनाने में जुट गई हैं. ऐसे राजनीतिक माहौल में एबीपी न्यूज आज देश का मूड जानने की कोशिश की है. एबीपी न्यूज के लिए सी वोटर ने त्वरित सर्वे किया है. 

इस सर्वे में सवाल किया गया कि गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) की नई पार्टी से जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में कांग्रेस पर कितना असर पड़ेगा? इस सवाल के जवाब में कई चौंकाने वाली बात सामने आई है. इस सर्वे में सबसे ज्यादा वोट इस बात पर पड़े की आजाद की नई पार्टी बनने से कांग्रेस (Congress) कमजोर होगी. वहीं, सर्वे में दूसरे नंबर पर इस बात पर वोट पड़े की इससे कांग्रेस मजबूत होगी. वहीं, इसका कोई असर नहीं पड़ेगा मानने वालों की संख्या तीसरे नंबर पर रही. 

नवगठित पार्टी के अध्यक्ष बने आजाद

वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस से मनमुटाव के बाद पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद उन्होंने अपनी एक नई पार्टी डेमोक्रेटिक आजाद पार्टी का गठन किया. शनिवार (1 अक्टूबर) को आजाद को उनकी नवगठित पार्टी का अध्यक्ष चुना गया. गौरतलब है कि 73 वर्षीय आजाद ने 26 अगस्त को कांग्रेस छोड़ दी थी. जिसके बाद उन्होंने 26 सितंबर को पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों और अन्य प्रमुख नेताओं के साथ मिलकर डीएपी का गठन किया था.  

गुलाम नबी आजाद की पार्टी जम्म-कश्मीर में चुनाव लड़ती है तो इसका उनकी पुरानी पार्टी कांग्रेस पर क्या असर पड़ेगा? मतदाता इसे लेकर क्या सोचता है. यही जानने के लिए एबीपी न्यूज के लिए सी-वोटर ने वोटरों का मूड भांपने की कोशिश की. 

सर्वे में मिला ये जवाब

जम्मू-कश्मीर में गुलाम नबी आजाद की नवगठित पार्टी का चुनाव में कांग्रेस पर कितना असर पड़ेगा इसे लेकर एबीपी न्यूज के लिए सी-वोटर ने त्वरित सर्वे किया. इस सर्वें के दौरान लोगों से पूछा गया कि आजाद की नई पार्टी से जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस पर कितना असर? इसके जवाब में 56% लोगों ने कहा कि आजाद की नई पार्टी बनने से कांग्रेस कमजोर होगी. वहीं, 27% लोगों को ऐसा लगता है कि आजाद की नई पार्टी बनाने से कांग्रेस को फायदा होगा और वह मजबूत होगी. वहीं, इस सवाल के जवाब में 21% लोगों ने कहा कि कोई असर नहीं पड़ेगा.

नोटः- abp न्यूज़ के लिए ये साप्ताहिक सर्वे सी-वोटर ने किया है. इस सर्वे में 4427 लोगों से बात की गई है. सर्वे के नतीजे पूरी तरह से लोगों से की गई बातचीत और उनके द्वारा व्यक्त की गई राय पर आधारित हैं. इसके लिए abp न्यूज़ ज़िम्मेदार नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः-

5G Launch Event: पीएम मोदी ने लॉन्च की भारत में 5जी सर्विस, बताया ऐतिहासिक पल, कंपनियों ने दिया डेमो | 10 बड़ी बातें

Congress President Election: प्रस्तावकों की संख्या से तय हो गई मल्लिकार्जुन खड़गे की जीत? जानें क्यों हार सकते हैं थरूर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments