Tuesday, November 29, 2022
HomeWorld Newsक्‍या एक और न्‍यूक्लियर टेस्‍ट की तैयारी कर रहा उत्तर कोरिया? जानें...

क्‍या एक और न्‍यूक्लियर टेस्‍ट की तैयारी कर रहा उत्तर कोरिया? जानें क्‍यों दुनिया को सता रहा डर— News Online (www.googlecrack.com)

North Korea Nuclear Test: जब उत्तर कोरिया ने 3 सितंबर 2017 को अपना अंतिम परमाणु परीक्षण किया तो चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) एक शिखर सम्मेलन के आयोजन की तैयारी में लगे थे. इस शिखर सम्मेलन में ब्राजील, रूस, भारत और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं को आना था. इस शिखर सम्मेनल का एकमात्र उद्देश्य ये था कि एक वैश्विक राजनेता के रूप में उनकी छवि को महत्वपूर्ण बनाया जाए. 

उत्तर कोरिया के इस परमाणु परीक्षण से 6.3 तीव्रता का भूकंप आया, जिसने उत्तर कोरिया-चीन सीमा के साथ लगने वाले घरों को हिलाकर रख दिया था और क्षेत्र में परमाणु संदूषण की आशंकाओं को पुनर्जीवित कर दिया था. इसने पहाड़ की ढलानों को भी स्थानांतरित कर दिया. इस परीक्षण को प्योंगयांग (उत्तर कोरिया की राजधानी) ने एक “पूर्ण सफलता” घोषित किया और कहा कि इसमें एक हाइड्रोजन बम शामिल है. इसी के साथ इसमें महाद्वीपीय संयुक्त राज्य को मारने में सक्षम लंबी दूरी की मिसाइलें भी शामिल हैं.

चीन और अमेरिका के विश्लेषकों ने तुरंत परमाणु परीक्षण की निंदा बीजिंग के लिए एक ‘अपमान’ के रूप में की, जो लंबे समय से उत्तर कोरिया का मुख्य सहयोगी और उसका प्राथमिक व्यापार भागीदार रहा है. साथ ही इसे शी के लिए एक “राजनयिक शर्मिंदगी” के रूप में भी देखा गया. वहीं चीन ने अमेरिका के नेतृत्व वाले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) के प्रतिबंधों में शामिल होकर जवाब दिया, जिसने उत्तर कोरिया की ईंधन आपूर्ति को रोक दिया और लगभग 100,000 उत्तर कोरियाई श्रमिकों की घर वापसी का आदेश दिया. हालांकि, अब पांच साल बाद उत्तर कोरिया की सैन्य महत्वाकांक्षा केवल बढ़ी ही है.

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन (Kim Jong-Un) ने अपने देश के परमाणु और मिसाइल हथियारों के विकास की गति तेज कर दी है. इस साल, किम ने व्यक्तिगत रूप से हाइपरसोनिक और अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों के प्रक्षेपण की देखरेख की है और एक नया कानून बनाया है जो उत्तर कोरियाई रणनीतिक संपत्ति और उसके नेतृत्व के खिलाफ एक आसन्न हमले का पता चलने पर पूर्व-खाली परमाणु हमलों की अनुमति देता है.

16 अक्टूबर से 7 नवंबर के बीच हो सकता है न्यूक्लियर टेस्ट?

उत्तर कोरिया पर नजर रखने वालों के बीच अब सातवें उत्तर कोरियाई परमाणु परीक्षण की चेतावनी तेज हो गई है, क्योंकि चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी इस महीने अपने पांच-वार्षिक सम्मेलन की तैयारी कर रही है. जहां शी जिनपिंग को तीसरी बार नियुक्त किए जाने की उम्मीद है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले हफ्ते दक्षिण कोरिया की जासूसी एजेंसी ने देश के विधायकों से कहा कि 16 अक्टूबर से 7 नवंबर के बीच नया परमाणु परीक्षण हो सकता है. 

‘इसे चीन के खिलाफ थप्पड़ माना जाएगा’

अल जजीरा पर छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, बीजिंग के एक विश्लेषक एइनार तांगेन ने कहा, “अगर किम जोंग उन कम्युनिस्ट पार्टी कांग्रेस के दौरान यह परीक्षण करते हैं तो इसे चीन के खिलाफ एक वास्तविक थप्पड़ माना जाएगा.” उन्होंने किम पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों का जिक्र करते हुए कहा, “इस हद तक कि वे ऐसा (परमाणु परीक्षण) करते हैं, यह अमेरिकी चुनावों के आसपास अधिक होगा क्योंकि उत्तर कोरिया इस समय अमेरिकी प्रतिक्रिया के बारे में अधिक चिंतित है.” हालांकि, अन्य लोगों का कहना है कि किम को चीन की चिंताओं की कोई परवाह नहीं है और उनका एकमात्र विचार एक परिचालन परमाणु मिसाइल के अपने उद्देश्य को प्राप्त करना है, जो उनका दावा है कि “शत्रुतापूर्ण ताकतों” के खिलाफ एकमात्र निवारक है.

उत्तर कोरिया ने जापान के ऊपर से दागी मिसाइल

इस दृश्य को मंगलवार को तब और बल मिला जब उत्तर कोरिया ने अपनी सबसे लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण किया. प्योंगयांग ने आखिरी बार 2017 में जापान के ऊपर से मिसाइल दागी थी. इससे लगभग एक हफ्ते पहले उसने अपने हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया था. अमेरिका और दक्षिण कोरिया के सैन्य अभ्यास के जवाब में गुरुवार को उत्तर कोरिया ने कम दूरी की दो मिसाइलें दागीं.

आखिर क्या होगी चीन की प्रतिक्रिया?

अमेरिका स्थित सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज के सीनियर फेलो एलेन किम ने जापान के ऊपर मिसाइल का जिक्र करते हुए कहा, “यह उम्मीद की गई थी कि उत्तर कोरिया सीसीपी कांग्रेस के समाप्त होने तक उकसावे से बचने की कोशिश करेगा. उत्तर कोरिया के इंटरमीडिएट-रेंज बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण के साथ अब यह उम्मीद टूट गई है.” हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि अगर उत्तर कोरिया परमाणु परीक्षण करता है तो चीन इस पर क्या प्रतिक्रिया देगा.

‘चीन पूर्वोत्तर एशिया में नहीं चाहता एक और सिरदर्द’

सियोल में सोगांग विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रोफेसर जेचुन किम ने कहा कि बीजिंग, उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों के परीक्षण का विरोध कर रहा था, क्योंकि यह “पूर्वोत्तर एशिया में सुरक्षा स्थिति को अस्थिर कर सकता है” और अमेरिका को रणनीतिक सैन्य संपत्ति को स्थानांतरित करने का एक कारण प्रदान कर सकता है. उन्होंने कहा, “चीन यूक्रेन में रूसी युद्ध से खुश नहीं है. वे पूर्वोत्तर एशिया में एक और सिरदर्द नहीं चाहता है. विशेष रूप से ताइवान के स्व-शासित द्वीप पर अमेरिका के साथ तनाव बढ़ने पर.”

ये भी पढ़ें- North Korea: तानाशाह किम जोंग ने बढ़ाई दुनिया की टेंशन! उत्तर कोरिया ने फिर दागी बैलिस्टिक मिसाइल

ये भी पढ़ें- मिसाइल टेस्ट से बाज नहीं आ रहे किम जोंग, UN में चीन-रूस पर भड़का अमेरिका, कहा- नॉर्थ कोरिया उठा रहा खुली छूट का फायदा

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments