Friday, December 9, 2022
HomeWorld Newsरिसर्च में दावा- दिन में दो से तीन कप कॉफी पीने वालों...

रिसर्च में दावा- दिन में दो से तीन कप कॉफी पीने वालों की होती है लंबी उम्र, हृदय रोग का खतरा कम— News Online (www.googlecrack.com)

Research on Coffee : दिन भर की भाग दौड़ वाली जिन्दगी में दो या तीन दफा कॉफी या चाय पीना आम बात है. चाहे दफ्तर हो या सड़क का किनारा. लोग आपको कॉफी या चाय की चुस्कियां लेते दिख जाएंगे. इसका मुख्य कारण यह है कि, ये शरीर को थकावट से दूर रखता है. हाल ही में हुए एक रिसर्च में पाया गया है कि दिन में दो से तीन कप कॉफी पीने से लंबी उम्र और हृदय रोग का खतरा कम होता है. ऑस्ट्रेलिया के बेकर हार्ट एंड डायबिटीज रिसर्च इंस्टीट्यूट की टीम ने 40 से 69 वर्ष की आयु के लोगों के बारे में यूके बायो बैंक के डेटा का उपयोग करके कॉफी और चाय पीनेवालों की अनियमित दिल की धड़कन, हृदय रोग और मृत्यु के बीच की कड़ी की जांच की.

रिसर्च में किन हृदय रोग को शामिल किया गया

रिसर्च में, हृदय रोग में खून की नली जाम करने वाले रोग, हार्ट फेलियर और हार्ट अटैक जैसी बीमारियां शामिल थीं. यूरोपियन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी में प्रकाशित रिसर्च में 4 लाख 49 हजार 563 प्रतिभागियों के दिल का तेज धड़कना या अन्य हृदय रोग से मुक्ति शामिल किया गया. प्रतिभागियों की औसत आयु 58 वर्ष थी. जिसमें 55.3 प्रतिशत महिलाएं थीं. रिसर्च के परिणाम की जानकारी मेडिकल रिकॉर्ड और मृत्यु रिकॉर्ड से प्राप्त की गई थी. औसत वर्ष 12.5 था. शोधकर्ताओं ने कहा कि सभी प्रकार की कॉफी के सेवन को किसी भी कारण से मृत्यु के जोखिम में कमी के साथ जोड़ा गया है.

रिसर्च में क्या देखने को मिला?

रिसर्च में प्रति दिन दो से तीन कप कॉफी पीने वालों के साथ हृदय रोग में कमी देखी गई, जो कि अलग तरह की कॉफी पीने की तुलना में क्रमशः 14 प्रतिशत डिकैफ़िनेटेड कॉफी, 27 प्रतिशत ग्राउंड कॉफी और 11 प्रतिशत इंस्टेंट कॉफी पीने वालों की थी. रिसर्च के दौरान देखा गया कि, कुल 27 हजार 809 यानी 6.2 प्रतिशत प्रतिभागियों की मृत्यु हुई. “इस बड़े, निरीक्षण रिसर्च में, ग्राउंड, इंस्टेंट और डिकैफ़िनेटेड कॉफी पीने वाले को हृदय रोग या किसी भी कारण से मृत्यु की घटनाओं में समान कमी के साथ जुड़े देखे गये.

रिसर्च के दौरान कितने लोगों का इलाज किया गया?

रिसर्च के दौरान 43 हजार 173 यानी 9.6 प्रतिशत प्रतिभागियों में हृदय रोग का इलाज किया गया. सभी प्रकार के कॉफी हृदय रोग की घटनाओं में कमी लाने के साथ जुड़े थे. दिन में दो से तीन कप कॉफी पीने वालों के साथ सबसे कम जोखिम देखा गया, जो कि कॉफी से परहेज की तुलना में 6 प्रतिशत डिकैफ़िनेटेड, 20 प्रतिशत ग्राउंड, और 9 प्रतिशत इंस्टेंट कॉफी हृदय रोग की संभावना को कम करता है.

प्रतिभागियों को एक प्रश्नावली को पूरा करने के लिए कहा गया था जिसमें पूछा गया था कि वे प्रत्येक दिन कितने कप कॉफी पीते हैं और क्या वे आम तौर पर तत्काल, जमीन (जैसे कैपुचिनो या फ़िल्टर्ड कॉफी), या डिकैफ़िनेटेड कॉफी पीते हैं.

रिसर्च का ढाँचा क्या था?

रिसर्च में 6 लोगों को हर दिन पीने वालों के ग्रुप में बांटा गया, इसमें कोई नहीं पीने वाले, एक से कम से कम पीने वाले, एक पीने वाले, दो से तीन पीने वाले, चार से पांच और हर दिन पांच कप से अधिक कॉफी पीने वाले शामिल थे. नॉर्मल कॉफी ग्रुप में 1 लाख 98 हजार 062 यानी 44.1 प्रतिशत, इंस्टेंट कॉफी में 82 हजार 575 यानी 18.4 प्रतिशत में ग्राउंड, और 68 हजार 416 यानी 15.2 प्रतिशत में डिकैफ़िनेटेड कॉफी और 1 लाख 510 यानी 22.4 प्रतिशत गैर-कॉफी पीने वाले थे.

 ये भी पढ़ें:

Haryana News: हरियाणा में बाल विवाह पर पूरी तरह पाबंदी, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कानून को दी मंजूरी

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments